शनि और आप

शनि और आप *************** यदि किसी की जन्म या लग्न कुंडली में शनि ग्रह लग्न, लग्नेश और चन्द्रमा अर्थात तीनों को प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित कर रहा हो तो उस व्यक्ति की मनोदशा विचलित मिलेगी, जीवन भ्रम से भरा होगा, किसी ना किसी असाध्य बिमारी का साथ हमेशा लगा रहेगा, व्यक्ति उदासी और अकेलेपन के चंगुल में फंसा रहता है, उसके जीवन में किसी भी स्थिति में परिवर्तन जल्दी से नहीं होता है अर्थात लगभग नीरस जीवन... ------------------------------------ लेकिन यदि शनि द्वादशेश, षष्ठेश या अष्टमेश हुआ तो स्थिति और भी विकट हो जाती है, उस स्थिति में व्यक्ति बहुत चाहकर या प्रयास करके भी कुछ नहीं कर पाता है... लेकिन यदि बृहस्पति का कहीं से कुछ प्रभाव मिल जाता है तो स्थिति में कुछ बदलाव भी हो सकता है... ऐसे में नवमांश कुंडली का बारीकी से अध्ययन बहुत जरूरी हो जाता है क्योंकि अधिकांशतः देखने में आता है कि लग्न कुंडली और नवमांश कुंडली में परिवर्तन होता ही है, और यह मेरा ज्योतिषीय एवं व्यक्तिगत अनुभव भी है...! ------------------------------------------- अतः यदि आपको लगता है कि शनि के कारण आपको ज्यादा दिक्कत है तो, ऐसे लोगों को मेरा विशेष परामर्श है कि किसी चमत्कार के चक्कर में ना पड़ें और स्वयं किसी निर्णय पर पहुंचने से पहले समय रहते किसी ज्ञानी एवं अनुभवी ज्योतिषी से ही परामर्श जरूर प्राप्त करें, इससे आपके बहुत सारे भ्रम भी दूर हो जायेंगें और जीवन भी निश्चित रूप से सरल हो जाएगा...! 🙏🌹🌹🙏 अग्रिम शुभकामनायें ...! सुभाष वर्मा ज्योतिषाचार्य ज्योतिषाचार्य, नामशास्त्री, रंगशास्त्री, अंकशास्त्री, वास्तुशास्त्री, कुंडली, मुहूर्त ------------------------- www.ASTROSHAKTI.in ---------------------------- केवल ज्योतिष - चमत्कार नहीं आत्मविश्वास बढ़ाएं - अन्धविश्वास भगाएं ------------------------------------------- [email protected] www.facebook.com/astroshakti --------------------------------------------

Written & Posted By : Subhash Verma Astrologer
Dated: :

Back to Jyotish Shakti

Login