ज्योतिष और भ्रांतियां

ज्योतिष और भ्रांतियां कुंडली में यदि ग्रह शुभ या मजबूत हैं तो ज्यादा खुश होने की आवश्यकता नहीं है, और यदि ग्रह अशुभ या कमजोर हैं तो ज्यादा दुखी होने की भी आवश्यकता नहीं है, क्योंकि हर पीली और चमकने वाली चीज सोना (स्वर्ण) नहीं होती है...? बिलकुल ऐसा ही ज्योतिष में भी होता है, क्योंकि अधिकांशतः यह देखने में आता है कि कुंडली में कोई ग्रह उच्च का है या कोई ग्रह केंद्र या त्रिकोण में बैठा है और उसकी दशा भी चल रही है फिर भी परिणाम अनुकूल नहीं आ रहे, ऐसे में परेशान व्यक्ति अशुभ ग्रह को शुभ या कमजोर ग्रह को मजबूत करने के उपायों में लग जाता है, उसके बाद उसके स्थिति का आकलन आप अपने बौद्धिक स्तर के अनुसार कर सकते हैं...! ------------------------------------------------------ ज्योतिष एक बहुत ही जटिल प्रक्रिया वाला विषय है क्योंकि ज्योतिष संभावनाओं और विरोधाभाषों से भरा पड़ा है अर्थात किसी एक नियम के अंतर्गत कोई ग्रह शुभ फल देने के लिए समर्थ या प्रतिबद्ध है तो वहीं दूसरे नियम के अंतर्गत वही ग्रह शुभ फल देने में पूर्णतया असमर्थ है ------------------------------------------------------ उदारहरण स्वरुप एक नियम के अनुसार चन्द्रमा वृषभ राशि में 3 अंशों पर उच्च का माना जाता है या होता है तो वहीं दूसरे नियम के अनुसार वही चन्द्रमा 0 से 6 अंशों तक मृत अवस्था (बालादि अवस्था) में होता है, अब ऐसे में किसका फल माना जाएगा...? इसी प्रकार एक नियम के अनुसार बृहस्पति कर्क राशि में 5 अंशों पर उच्च का माना जाता है या होता है तो वहीं दूसरे नियम के अनुसार वही बृहस्पति 0 से 6 अंशों तक मृत अवस्था (बालादि अवस्था) में होता है, अब ऐसे में किसका फल माना जाएगा...? ------------------------------------------------------ ज्योतिष ऐसे ही ढेरों विरोधाभाषों से भरा पड़ा है और इसी विरोधाभाषों की वैशाखी पर ज्योतिषीय उपायों का तंत्र (System) खड़ा है या चल रहा है, इस सम्बन्ध में आप अपने बौद्धिक स्तर के अनुसार कुछ भी सोचने के लिए पूर्णतया स्वतंत्र हैं ------------------------------------------------------- अंततः जो लोग ज्योतिषीय परामर्श के इच्छुक हैं उनको मेरा परामर्श है कि इसके लिए किसी शिक्षित, ज्ञानी, अनुभवी एवं विश्वसनीय ज्योतिषी से ही संपर्क करने का प्रयास करें...! 🙏🌹🌹🙏 अग्रिम शुभकामनायें ...! सुभाष वर्मा ज्योतिषाचार्य कुंडली, नामशास्त्री, रंगशास्त्री, अंकशास्त्री, वास्तुशास्त्री, मुहूर्त --------------------------------------------------------- केवल ज्योतिष - चमत्कार नहीं आत्मविश्वास बढ़ाएं - अन्धविश्वास भगाएं www.astroshakti.in [email protected] www.facebook.com/astroshakti

Written & Posted By : Subhash Verma Astrologer
Dated: :

Back to Jyotish Shakti

Login