सूर्य का कष्टकारी गोचर प्रत्येक वर्ष में

सूर्य का कष्टकारी गोचर प्रत्येक वर्ष में 1. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि मेष राशि में है तो 15 अगस्त से 14 सितम्बर तक का समय कष्टकारी हो सकता है 2. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि वृषभ राशि में है तो 15 सितम्बर से 14 अक्टूबर तक का समय कष्टकारी हो सकता है 3. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि मिथुन राशि में है तो 15 अक्टूबर से 14 नवंबर तक का समय कष्टकारी हो सकता है 4. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि कर्क राशि में है तो 15 नवम्बर से 14 दिसम्बर तक का समय कष्टकारी हो सकता है 5. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि सिंह राशि में है तो 15 दिसम्बर से 14 जनवरी तक का समय कष्टकारी हो सकता है 6. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि कन्या राशि में है तो 15 जनवरी से 14 फरवरी तक का समय कष्टकारी हो सकता है 7. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि तुला राशि में है तो 15 फरवरी से 14 मार्च तक का समय कष्टकारी हो सकता है 8. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि वृश्चिक में है तो 15 मार्च से 14 अप्रैल तक का समय कष्टकारी हो सकता है 9. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि धनु राशि में है तो 15 अप्रैल से 14 मई तक का समय कष्टकारी हो सकता है 10. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि मकर राशि में है तो 15 मई से 14 जून तक का समय कष्टकारी हो सकता है 11. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि कुम्भ राशि में है तो 15 जून से 14 जुलाई तक का समय कष्टकारी हो सकता है 12. लग्न कुंडली या चंद्र कुंडली में सूर्य यदि मीन राशि में है तो 15 जुलाई से 14 अगस्त तक का समय कष्टकारी हो सकता है ------------------------------- # आवश्यकता है समय रहते प्रत्येक वर्ष का कुंडली में ग्रह गोचर के जानकारी की एवं इस सम्बन्ध में और अधिक स्पष्टता या जानकारी के लिए आप किसी शिक्षित, ज्ञानी, अनुभवी एवं विश्वसनीय ज्योतिषी से संपर्क कर परामर्श प्राप्त कर सकते हैं...! 🙏🌹🌹🙏 अग्रिम धन्यवाद एवं शुभकामनायें सुभाष वर्मा ज्योतिषाचार्य -------------------------------- ज्योतिष सीखें - जागरूक बनें केवल ज्योतिष - चमत्कार नहीं आत्मविश्वास बढ़ाएं - अन्धविश्वास भगाएं www.AstroShakti.in [email protected] www.facebook.com/AstroShakti

Written & Posted By : Subhash Verma Astrologer
Dated: :

Back to Jyotish Shakti

Login