ज्योतिषीय मुहूर्त (Astrological Auspicious Time)

ऐसी मान्यता है कि यदि किसी भी कार्य का आरम्भ अच्छे समय में किया जाय तो उस कार्य के सफल होने की संभावना अत्यधिक रहती है । ज्योतिष में इसी अच्छे समय को मुहूर्त कहते हैं । भारतीय ज्योतिष के अनुसार मानव जीवन में अधिकतम सुख 40% होता है और न्यूनतम दुःख 60% निर्धारित है। सदैव स्मरण रहे कि मानव जीवन में अधिकाँश चीज़ें पूर्व निर्धारित होती हैं, लेकिन हमें इनकी जानकारी नहीं होती है, लेकिन व्यक्ति अपने कर्म एवं ज्योतिषीय मुहूर्त के माध्यम से अपने जीवन में अनुकूलता (Positivity) में वृद्धि और प्रतिकूलता (Negativity) में कमी कर सकता है। मेरा ज्योतिषीय अनुभव भी यह कहता है कि अध्ययन, लेखन एवं दैनिक व्यापार में मुहूर्त के माध्यम से उत्तम परिणाम प्राप्त किये जा सकते हैं । यदि आप अपने जीवन में अधिक से अधिक ज्योतिषीय मुहूर्त के हिसाब से कार्य का प्रारम्भ करें तो इससे परिणामों में अनुकूलता में वृद्धि और प्रतिकूलता में कमी की सम्भावना निश्चित रूप से बढ़ जाएगी। दैनिक जीवन में भी इसका उपयोग फलदाई हो सकता है । अतः किसी ज्ञानी एवं अनुभवी ज्योतिषी से ज्योतिषीय मुहूर्त के बारे में परामर्श अवश्य प्राप्त करें । ज्योतिषीय मुहूर्त को अपनाएँ और जीवन में अनुकूलता (Positivity) और सुखों (Happiness) में वृद्धि की संभावनाओं को बढ़ाएं । आज समाज में आत्मविश्वास बढ़े और अन्धविश्वास भागे इसी के सन्दर्भ में मैनें यह लेख अपने प्राप्त ज्योतिष ज्ञान, ज्योतिष शिक्षा, ज्योतिषीय अनुभव, सामाजिक अनुभव, एवं व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर लिखा है । धन्यवाद ! सुभाष वर्मा ज्योतिषाचार्य www.facebook.com/astroshakti [email protected] www.astroshakti.in

Written & Posted By : Subhash Verma Astrologer
Dated: :

Back to Jyotish Shakti

Login